http://WWW.SYIKNP.COM
http://WWW.SYIKNP.COM

Checking delivery availability...

background-sm
Search
Home All Updates (209) Page 1 35.83
update image
बद्ध पद्मासन पद्मासन का अर्थ और उसके करने का तरीका : “पद्म” अर्थात् कमल। जब यह आसन किया जाता है, उस समय वह कमल के समान दिखाई पड़ता है। इसलिए इसे ‘पद्मासन’ नाम दिया गया है। यह आसन “कमलासन’ के नाम से भी जाना जाता है। ध्यान एवं जाप के लिए इस आसन का मुख्य स्थान होता है। यह आसन पुरुषों और स्त्रियों दोनों के लिए अनुकूल योग में बद्ध पद्मासन एक विशेष स्थान रखता है। बद्ध पद्मासन में दोनों हाथों से शरीर को बांधा जाता है। इसलिए इसे बद्ध पद्मासन कहा जाता है। इस आसन को भस्मासन भी कहा जाता है। यह आसन कठिन आसनों में से एक है। वैदिक वाटिका आपको बता रही है बद्ध पद्मासन के फायदे और इसे करने का तरीका। सबसे पहले जानते हैं बद्ध पद्मासन योग के फायदे इस आसन से : दुबलापन दूर होता है और शरीर में ताकत आती है। छाती चौड़ी होती है। गर्दन, पीठ और पीठ का दर्द ठीक होता है। जो लोग कुर्सी पर बैठकर काम करते हैं उनके लिए यह आसन बहुत फायदेमंद होता है। फेफड़े, जिगर और दिल संबंधी रोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। रक्त संचार तेज होता है। बद्ध पद्मासन करने की विधि भूमि पर दोनों पैर फैला कर सीधे बैठे। फिर दायाँ पैर बाएँ पैर की जाँघ पर और बायाँ पैर दाएँ पैर की जाँघ पर रखें। वैसे कुछ लोगों को पहले दाएँ जाँघ पर बायाँ पैर और फिर बाई जाँघ पर दायाँ पैर रखने में आसानी होती है।आप चाहे तो ऐसा भी कर सकते है। फिर इमेज (चित्र) में बताए अनुसार दोनों हाथों के अंगूठो को तर्जनियों के साथ मिला कर बायाँ हाथ बाएँ पैर के घुटने पर और दायाँ हाथ दाएँ पैर के घुटने पर रखें। याद रहे की हथेलियाँ ऊपर की ओर हों। मेरुदंड और मस्तक सीधी रेखा में रखें। आँखों को बंद या खुली रखें। सबसे पहले आप जमीन पर कोई दरी या कंबल बिछाकर बैठ जाएं। आपकी एड़ियां पेट के निचले भाग से सटी हुई हों। पंजे जांघों से बाहर निकालें अब अपनी बांई भुजा को पीछे की ओर ले जाएं। जैसा चित्र 1 में दिखया गया है। बाएं हाथ से बांए पैर का अंगूठा पकड़ें।ठीक एैसे ही दांए हाथ को पीछे की ओर ले जाकर दांए हाथ से दांए पैर के अंगूठे का पकड़ लें पद्मासन करने के लाभ जप, प्राणायाम, धारणा, ध्यान एवं समाधि के लिए इस आसन का उपयोग होता है। इस आसन से अंत: स्रावी ग्रंथियां (endocrine glands) की कार्यक्षमता बढती हैं। यह आसन दमा, अनिद्रा तथा हिस्टीरिया (उन्माद) जैसे रोग दूर करने में सहायक होता है। अनिद्रा के रोगियों के लिए तो यह आसन बहुत प्रभावकारी होता है। यह आसन शरीर की स्थूलता और मोटापा कम करने में भी सहायक होता है। इस आसन से जीवनशक्ति (vitality) की वृद्धि होती है। इस आसन के अभ्यास से जठराग्नि (पाचन तन्त्र) तीव्र बनती है और भूख भी बढ़ती है। मोट लोग यह आसन ना करें। कमर या हाथ की हड्डी यदि टूटी हुई हो तो वे भी इस आसन को ना करें। इस योग को किसी योग जानकार की रेख देख में ही करें। अर्धमत्स्येंद्रासन में सावधानी गर्भवती महिलाओं को इस आसन का अभ्यास नहीं करनी चाहिए। रीढ़ में अकड़न से पीडि़त व्यक्तियों को यह आसन सावधानीपूर्वक करना चाहिए। एसिडिटी या पेट में दर्द हो तो इस आसन के करने से बचना चाहिए। घुटने में ज़्यदा परेशानी होने से इस आसन के अभ्यास से बचें। गर्दन में दर्द होने से इसको सावधानीपूर्वक करें। -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit | Sadhak Anshit Yoga Classes
Send Enquiry
Read More
update image
YOGA FOR HAPPY LIVING Yoga is a holistic approach to healthy living. Vichar or thinking is vital. To train the mind with positive and happy thoughts, a few basics things can be done. They are Yoga Asanas, Yoga Pranayama, reducing stress through proper relaxation, reflection & meditation, and Sattvik Diet. Yoga Asanas: Healthy mind is a healthy body; yoga asanas or poses helps to trigger the release for feel-good hormones or happy hormones. Stretching during the poses stimulates and strengthens the body making it flexible. Positive thinking and flexibility in thinking can start from the gross body through regular asana practices. Ideally, all asanas are recommended but learn them from a certified yoga teacher or trainer. Yoga Pranayama: Thoughts and mind are directly linked. On average, more than 55, 000 thoughts come and go through the average person’s brain. And mostly, negative thoughts are more as compared to positive ones. Yoga Pranayamas help in positive thinking when done properly. Smooth rhythmic breathing with mindfulness induces better oxygenation and thereby clears the mind from bad thoughts. Also, reduces toxin built up and aids the central nervous system. Regular practice improves breathing and clears the mind of negative thinking. Yogendra pranayamas I, II, III, IV, and Anulom-Vilom pranayamas are highly recommended. Reducing stress through proper Relaxation: Stress and anxiety can trigger a chain of negative thoughts. Mind chatter drains you of positivity. PratipakashBhavana, Nishpandabhava are pioneering techniques of the Institute which are highly recommended during this time. These help to conserve energy and get rid of negative thinking. Cultivating hobby and spending quality time with family by sharing jokes, playing games etc. help to relax adequately. Reflection and Meditation: Reflection is the best way to know your strengths and eliminate repetitive mistakes. Self- awareness leads to confidence and helps eliminate doubts and negative thinking. Mantra meditation, chanting, guided meditation all help to clear the thinking and get rid of negative thoughts and infuse happy thinking and living. Sattvik Diet: A balanced Sattvik diet consisting of fresh greens, seasonal fruits, whole grains, and nuts helps to keep up the energy levels and remain active. This keeps the mind fresh filled with positive thinking. Sattvik diet impacts the way one thinks. Here are some tips for holistic health and happiness: Eat in moderation Eat slowly chew your food properly Adhere to your meal timings Mindful eating with concentration Scientific tool for happy living Yoga helps in imbibing positive thoughts, allowing you to live life to the fullest. -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit
Send Enquiry
Read More
update image
Top 7 Health Benefits of Sirsasana (Headstand) It is universally acknowledged that yoga is a wonder science that provides energy, strength, beauty, and flexibility to the mind, body, and soul. From providing overall personal well-being to reconnecting the practitioners with their lost spirit, the comprehensive practice of yoga involving yoga postures, meditation, and pranayama nurtures a sense of joy, internal peace, wellness and the interconnection with what truly matters. The practice of mystical yoga asanas is aimed at purification of the physical and mental body for a long-lasting health. And, sirsasana (headstand) is one such incredible yoga posture that stills the turbulence of the mind, perfects the physical health, and makes you extra focused and luminous in life. The king of all asanas, Sirsasana (headstand) requires the whole body weight to be borne on the head that assists in the integrated development of the body, calms the brain, and expands the horizons of the soul. Learn the correct steps to performing a headstand and garner the amazing benefits of sirsasana: 1. Come on your fours on a yoga mat. Locate your forearms on the floor and interlace your fingers. Make sure your elbows are shoulder-distance apart. 2. Place the top of your head against the clasped hands. With an Inhalation, uplift the knees off the ground. 3. Bring your body into an upside-down “V” position. Walk your feet nearer to your elbows, heels raised. 4. Slowly, lift your feet off the ground and bring your knees closer to your chest. 5. Gently extend your legs upward. Keep them vertical to the ground. 6. Evenly distribute your weight between the forearms and remain in this pose for 20-30 seconds. 7. To release the posture, Exhale; come down to the floor without lifting your shoulder blades from the ground and rest the feet on the yoga mat. Here is a list of best seven benefits of headstand. Take a look at the pointers below: 1. Stimulates Brain Function: The brain is the place of intelligence, wisdom, power, and knowledge. The skull encases the brain which regulates the nervous system and other organs of the body. The brain is also the center of the cognitive functioning of the humans. Headstand yoga posture increases the supply of pure blood to the brain cells making them healthy and rejuvenated. Robust brain cells result in an improvement in cognitive functioning, enhance focus, and clear the thoughts. The nutrients and blood nourish the brain cells and elevate the functioning of the brain. 2. Invigorates the Mind: Many of us live a life inflicted with stress, tension, and some even with depression. The persistent anxiety takes a toll on the physical health and leads to an imbalanced livelihood. Sirsasana is a natural way to calm the wobbling stress. It increases the flow of oxygenated blood to the brain that activates the pituitary gland and pineal gland that efficiently alleviates all the worries, depression, insomnia, and revitalizes the mind. “The peaceful mind aids in better concentration, circulation, and controls metabolism”, according to Iyengar. 3. Healthy Hair Growth: The sirsasana is an amazing yoga posture if you want to optimize the flow of nutrients and blood to your scalp region. Perform the upside-down headstand yoga pose that enhances the supply of nutrients to the hair follicles, preventing hair fall, and grants the practitioners with strong and luscious hair. 4. Improves Vision: A cost-effective and safe method of improving vision is found in the consistent practice of headstand. Going upside down increases the blood flow rich in vitamins and other essential nutrients to the sensory organs including the eyes and prevents the onset of various eye abnormalities such as myopia, cataract, astigmatism, and macular degeneration. 5. Treats Sexual Disorders: It is well-known that the headstand enhances the blood flow to the head, glands, and other organs of the body. Additionally, it carries positive effect for some of the sexual disorders like menopause syndrome, menstrual cramps, sperm deficiency, and other sexual problems. It drains out the blood from the endocrine glands and results in optimal functioning of the sexual glands. 6. Strengthens the Body: As you hold yourself up on the head in a headstand, you utilize the strength of your arms, shoulders, and back to keep the pressure off from your neck and head. By encouraging you to lift your own body weight, sirsasana improves muscle endurance and uplifts the upper body strength. 7. Remedy For Hypertension: The performance of sirsasana is a great remedy for people suffering from hypertension. The inverted position greatly increases the blood flow and normalizes the blood pressure. Sirsasana (headstand ) is a great yoga posture with tons of benefits that help a ‘Sadhak’ (practitioner) stay fit and healthy. -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit
Send Enquiry
Read More
update image
पेट के रोग में राम-बाण है अग्निसार क्रिया हमारे शरीर को 13 प्रकार की अग्नियां चलाती हैं, जिनमें खाना पचाने में उपयोगी सात धातुओं की अग्नि, पांच भूतों की अग्नि व एक भूख लगाने वाली जठराग्नि होती है। अतः जो इन 13 प्रकार की अग्नियों को बल दे, उसे अग्निसार कहते हैं। यह क्रिया पेट के रोगों से जीवन भर बचाव के लिए बड़ी महत्वपूर्ण है। यह भी षट्कर्म का एक अभ्यास है। विधि : इसके लिए खड़े हो जाए और दोनों पैरों को थोड़ा खोल लें। अब पूरी सांस भरें और अच्छी तरह से सांस बाहर निकालते हुए आगे झुकें और हाथों को जंघाओं पर रख लें। अब सांस को बाहर ही रोक कर रखें व हाथों से पैरों पर जोर डालते हुए पेट को अन्दर की तरफ खींचे और फिर बाहर की ओर ढीला छोड़े। इस प्रकार जब तक सांस बाहर रोक सकें, तब तक लगातार पेट को अंदर-बाहर पम्पिंग की तरह हिलाते रहें। फिर जब लगे अब सांस नहीं रोक सकते, तब पेट को ढीला छोड़ दें और सांस भरकर आराम से सीधे खड़े हो जाएं। थोड़ा आराम करने के बाद इस क्रिया को फिर से दोहरा लें। 3 से 4 बार क्रिया का अभ्यास करें। सावधानियां : पेप्टिक अल्सर, कोलाईटिस, हर्निया या पेट का ऑपरेशन हुआ हो तो इसका अभ्यास न करें। स्त्रियां मासिक धर्म के दिनों में और गर्भावस्था में इसका अभ्यास न करें। लाभ: इससे पेट के सभी अंगों को अधिक मात्रा में रक्त मिलने लगता है जिससे आमाशय, लीवर, आंतें, किडनी, मलाशय व मूत्राशय को बल मिलता है और इनसे संबंधित रोग नहीं होते। कब्ज, गैस, डकार, अफारा, भूख न लगना आदि पाचन तंत्र के रोग ठीक हो जाते हैं। इसलिए प्रतिदिन इसका अभ्यास करने से कभी पेट के रोग परेशान नहीं करते। इसके अभ्यास से कभी पेट बाहर नहीं निकलता। मोटापा दूर होने लगता है। डायबटीज़ में यह क्रिया राम-बाण की तरह कार्य करती है और बढ़ा हुआ शुगर लेवल बड़ी शीघ्रता से कम हो जाता है। साथ ही यह नपुंसकता को दूर कर युवा अवस्था को बनाए रखने में बड़ा उपयोगी है। -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit
Send Enquiry
Read More
update image
उत्तान पादासन से तुरंत पेट अंदर आधुनिकता की अंधी दौड़ में खान-पान, रहन-सहन, आचार-विचार और जीवन पद्धति के विकृत हो जाने से आज सारा समाज अनेक प्रकार के रोगों से ग्रस्त हैं। खासकर वह अपच, कब्ज, मोटापा, तोंद और अन्यपेट संबंधी बीमारियों से परेशान हो गया है। सभी के निदान के लिए लिए योग ही एकमात्र उपाय है। यहां प्रस्तुत है पेट को अंदर करने के लिए अचूक आसन उत्तान पादासन। सावधानी : जब कमर में दर्द तथा मांसपेशियों में ऐंठन की शिकायत हो, उस समय इस आसन का अभ्यास नहीं करें। गर्भावस्था के दौरान महिलाएं अभ्यास न करें। इस आसन को स्त्री पुरुष समान रूप से कर सकते हैं। छह सात वर्ष के बालक-बालिकाएं भी इसे कर सकते हैं। यह बहुत आसान आसन है एवं अधिक लाभदायक है। करने की शर्त यह कि आपको पेट और कमर में किसी प्रकार का कोई गंभीर रोग न हो। यदि ऐसा है तो किसी योग चिकित्सक से पूछकर करें। पहली विधि : पीठ के बल भूमि पर चित्त लेट जाएं। दोनों हथेलियों को जांघों के साथ भूमि पर स्पर्श करने दें। दोनों पैरों के घुटनों, एड़ियों और अंगूठों को आपस में सटाए रखें और टांगें तानकर रखें। अब श्वास भरते हुए दोनों पैरों को मिलाते हुए धीमी गति से भूमि से करीब डेढ़ फुट ऊपर उठाएं अर्थात करीब 45 डिग्री कोण बनने तक ऊंचे उठाकर रखें। फिर श्वास जितनी देर आसानी से रोक सकें उतनी देर तक पैर ऊपर रखें। फिर धीरे-धीरे श्वास छोड़ते हुए पांव नीचे लाकर बहुत धीरे से भूमि पर रख दें और शरीर को ढीला छोड़कर शवासन करें। आसन अवधि : इस आसन का प्रात: और संध्या को खाली पेट यथाशक्ति अभ्यास करें। जब आप श्वास को छाती में एक मिनट से दो तीन मिनट तक रोकने का अभ्यास कर लेंगे तब आपका आसन सिद्ध हो जाएगा। इसका लाभ : *इसके अभ्यास से पेट और छाती का थुलथुलापन, पेडू का भद्दापन दूर हो जाता है। * पेट के स्नायुओं को बड़ा बल मिलता है जिससे कद बढ़ता है। * इसे कहते रहने से पेट कद्दू की तरह कभी बड़ा नहीं हो सकता। * यह आसन पेट का मोटापा दूर करने के अतिरिक्त पेट की आंतें सुदृढ़ कर पाचन शक्ति को बढ़ाता है। * इस आसन के नियमित अभ्यास से गैस और अपच का नाश होता है। * पूराने से पुराना कब्ज का रोग दूर होता है और खूब भूख लगती है। * उदर संबंधी अनेक रोक नष्ट होते हैं। * नाभि केंद्र जो बहत्तर हजार नाड़ियों का केंद्र है। उसे ठीक करने के लिए उत्तान पादासन सर्वश्रेष्ठ है। * इसके अभ्यास द्वारा नाभि मंडल स्वत: ही ठीक हो जाता है। *यदि नाभि जगह से हट गई हो तो गिरी हुई धरण पांच मिनट उत्तान पादासन करने से अपने सही स्थान पर आ जाती है। दूसरी विधि : पीठ के बल भूमि पर चित्त लेटें। दोनों हाथों को नितम्बों से लगाकर कमर के ऊपर तथा नीचे का हिस्सा भूमि से लगभग एक फुट उपर उठाएं। केवल कमर का हिस्सा जमीन पर लगा रहे। इसमें संपूर्ण शरीर को कमर के बल पर तौलते हैं। जिसका प्रभाव नाभि स्थान पर अच्छा पड़ता है। इस आसन से लाभ : * मोटापा दूर करने के लिए यह रामबाण है। * महिलाएं प्रसव के बाद स्वाभाविक स्थिति में आने के बाद करें तो पेडू का भद्दापन दूर हो सकता है। * इस आसन के करने से हार्निया रोग नहीं होता। जिन्हें हार्निया हो भी गया हो तो इस आसन से यह रोग दूर हो जाता है। * इससे घबराहट दूर हो जाती है। दिल की धड़कन, श्वास फूलना, आदि रोग भी दूर हो जाते हैं। * सामान्य रूप से दस्त, पेचिश, मरोड़, खूनी दस्त, नसों की खराबी, आंत्र वृद्धि, जलोदर, पेट दर्द, कब्ज, फेफड़ों के रोग आदि अनेक रोग दूर होते हैं। -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit
Send Enquiry
Read More
update image
USHTRASANA – THE CAMEL POSTURE The immense potential that lies within me, unravels. The camel posture has great value both physiologically and psychologically. It aims to develop a stronger spine and a leaner body and relieves minor aches and pains of the back. This asana helps remove complacency and builds a stronger emotional disposition, unravelling the potentials. Method of Practice: Starting Position: Sit on the mat in a kneeling position with your toes and heels together. It is best to keep the knees together but you may keep your knees slightly apart for comfort and balance. Steps Gradually lean backward, and take your arms behind. Place your palms on the ground, with your fingers pointing backward and the thumbs towards the toes. Keep your arms straight. While inhaling, slowly lift your pelvis, waist, and body both outwards and upwards. Gently allow your neck and head to fall back. Remain in this position for 6 seconds holding your breath. Posture Release: Exhaling, relax your torso and slowly straighten your head and neck. Release your palms and resume the kneeling position. Limitations/Contraindications: Abdominal inflammation Ulcers Slipped disc Benefits: Physical: It reduces fat on your thighs. It opens up your hips, stretches deep hip flexors. There is relative stretching of your upper thighs, abdomen, thorax neck and facial muscles. There is an inverted pressure on the vertebrae from the small of the back towards your shoulder and neck. Therapeutic: It improves your posture. It improves your respiration. It relieves lower back pain. Psychological: It develops self-confidence. It relieves stress. It calms the mind. Muscles Involved: Quadriceps, anterior abdominal wall muscles. Sterno-mastoid and wrist extensor. Isometric contraction of the muscles of the upper limbs. ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------ Yoga For Weight Loss in Kanpur | Power Yoga in Kanpur | Yoga in Kanpur | Best Home Yoga Trainer in Kanpur | Group Yoga Classes in Kanpur | Yoga for Diabetes in Kanpur | Best Yoga Products in Kanpur | Best Yoga News in Kanpur | Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Instructor in Kanpur | Best Yoga Institute in Uttar Pradesh | Good Yoga Teachers in Kanpur | Best Yoga Courses in Uttar Pradesh | Best Yoga Classes in Kanpur | Top Yoga Classes in Kanpur | Best Yoga Center in Kanpur | Top Yoga Center in Kanpur | Best Yoga Courses in Kanpur | Yoga Teacher Courses in Kanpur | Sadhak Anshit | Yoga Classes By Sadhak Anshit | Sadhak Anshit Yoga Classes
Send Enquiry
Read More
Page 1 35.83

Updates